Some Important Question Answers in Hindi

Find here question about kusum yojana, Benefit of Saunf-Fennel and Pulses in Hindi

किसान उर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाभियान (कुसुम) योजना क्या है? – What is Farmers Energy Security and Uplift Mahabhiyan

केंद्र सरकार के वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा बजट में वर्ष 2018-19 से लागू किए जाने वाली महत्वाकांक्षी योजना कुसुम योजना का एलान किया गया. इस योजना के तहत वर्ष 2022 तक देश में तीन करोड़ सिंचाई पम्पों को डीजल या बिजली के स्थान पर सौर ऊर्जा से चलाए जाने का लक्ष्य रखा गया है. इस योजना का पूरण नाम किसान उर्जा सुरक्षा व् उत्थान महाभियान रखा गया है.

कुसुम योजना के तहत सरकार किसानों को खेतों के ऊपर या मेड़ों पर सौर ऊर्जा संयंत्र लगाकर बिजली उत्पादन करने की छूट देगी. जिससे किसानों के कृषि कार्य में बिजली की आपूर्ति से सम्बंधित समस्याओं का निदान हो जाएगा. तथा किसानों द्वारा अपनी जरुरत के अतिरिक्त बची हुई बिजली को ग्रिड में देने पर उसका मूल्य भी प्राप्त होगा. अत: इस योजना के पूर्णतया लागू हो जाने पर किसानों को आय का दूसरा साधन भी उपलब्ध हो जाएगा.

इस योजना के तहत सौर उर्जा संयंत्र खेतों में लगाने का कुल खर्च 1.40 लाख करोड़ रुपए आएगा. जिसमें से 48 हजार करोड़ रुपए केंद्र सरकार द्वारा दिया जाएगा तथा इतनी ही धनराशी का योगदान राज्य सरकारों का होगा एवं किसानों को केवल 10% धनराशी अग्रिम जमा करनी होगी. इस योजना के तहत अपने खेत में सौर ऊर्जा संयंत्र लगाकर मुफ्त में बिजली उपलब्ध हो सकेगी. इसके अतिरिक्त उपयोग से बची हुई बिजली किसान बिजली वितरण कम्पनी को बेच कर अतिरिक्त आय के साधन के रूप में उपयोग कर सकते है.

कुसुम योजना के तहत किसान केंद्र एवं राज्य सरकार की मदद से सौर उर्जा संयंत्र अपने खेत में लगाकर बिजली के अभाव की समस्या से निदान पाने में सफल हो सकेंगे. इस योजना के क्रियान्वयन के पहले चरण में सिंचाई के लिए 17.5 लाख सिंचाई पम्प को सौर ऊर्जा से चलाया जाएगा.

मसाले वाली फसल- ‘सौंफ’ स्वास्थ्य के लिए लाभप्रद है. इसे जानिए. – Benefit of Saunf-Fennel in Hindi

‘सौंफ; (Saunf-Fennel) मसाले वाली फसल (Condiments & Spices), कुल-अम्बैलिफेरी से सम्बंधित है, जो कॉपर, पोटेशियम, कैल्सियम, जिंक, मैंगनीज, विटामिन ‘सी’ आयरन (Fe-लोह), सोलेनियम, मैग्नीशियम जैसे खनिजों का एक महत्वपूर्ण स्त्रोत है. सौंफ से साँसों की बदबू भी ख़त्म हो जाती है. सौंफ के प्रमुख लाभों में-कब्ज दूर करने में, आँखों की रौशनी बढाने में तथा दस के नियंत्रण में लाभदायक है.

भोजन के बाद सौंफ का सेवन करने से खाना अच्छी तरह से पचता है. सौंफ, जीरा व् काला नामक मिलाकर चूर्ण बना लीजिए. खाने के बाद हलके गुनगुने पानी के साथ इस चूर्ण को लीजिए. खाने के बाद हलके गुनगुने पानी के साथ इस चूर्ण को लीजिए यह एक अच्छा पाचक चूर्ण है जो लोग पेट में गैस बन्ने की समस्या से ग्रसित है, उन्हें भोजन करने के बाद सौंफ खाना चाहिए. राजस्थान के जोबनेर से सौंफ की विकसित प्रजाति ‘UF-101’-पौष्टिक दृष्टि से काफी अच्छी साबित हुई है.

‘दलहनी’ (Pulses) फसलों की फलियाँ बचा सकती है’ ‘डायबिटीज’ रोग से. इसे जानिए. – Health Benefit of Pulses in Hindi

दलहनी फसलों की फलियाँ जैसे-चना, मसूर, सेम और मात्र की फलियाँ मधुमेह (डायबिटीज) के खाते को कम करने में मददगार सिद्ध हुई है. स्पेन की ‘रोविस आई वर्जिला यूनिवर्सिटी’ के शोधार्थियों ने मधुमेह के नियंत्रण में आची सफलता हासिल की है, क्यूंकि इन अनाजों में विटामिन ‘बी’ की मात्रा पर्याप्त होती है. इसके अलावा इसमें कैल्सियम, पोटेशियम और मैग्नीशियम जैसे पोषक तत्व भी प्रचुर मात्रा में होते है. इसमें फाइबर की भी पर्याप्त मात्रा होती है. रोजाना के खाने में अंडे, रोटी, चावल और आलू की आधी मात्रा को फली वाले अनाज से बदल दिया जाय, तो यह बेहद लाभदायक हो सकता है. इनके सेवन से खून में ग्लूकोज बहुत धीरे-धीरे बढ़ता है.

Leave a Comment