DigiLocker: ऑनलाइन डॉक्यूमेंट जमा करने की सुविधा

डिजीलॉकर एक ऑनलाइन दस्तावेज़ भंडारण सुविधा है जो इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय (भारत सरकार) द्वारा डिजिटल सेवा पहल के तहत प्रदान की जाती है. एक उपयोगकर्ता अपने सभी आवश्यक स्कैन किए गए दस्तावेज़ / प्रमाण पत्र जैसे आरसी, ड्राइविंग लाइसेंस, वाहन पंजीकरण, पैन कार्ड, शैक्षणिक दस्तावेज आदि अपलोड कर सकता है.

Sep 18, 2019 18:55 IST

Digilocker: Meaning and Benefits

DigiLocker सुविधा के बारे में (What is DigiLocker facility)
डिजिटल लॉकर या डिजी लॉकर एक तरह का वर्चुअल लॉकर है. डिजिटल लॉकर का लक्ष्य दस्तावेजों की हार्ड कॉपी के उपयोग को कम करना और एजेंसियों और अन्य विभागों में ई-दस्तावेजों को आसानी से साझा करना है.

यह सुविधा हर समय भौतिक रूपों में सभी दस्तावेजों को ले जाने के सिरदर्द को कम करेगी. यह सुविधा मूल दस्तावेजों के लापता होने की घटनाओं को कम करेगी. इन डिजिटल हस्ताक्षरित दस्तावेजों को सरकारी संगठनों या अन्य संस्थाओं के साथ साझा किया जा सकता है.

DigiLocker की सुविधा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा चार साल पहले जुलाई 2015 में शुरू की गई थी, लेकिन इससे संबंधित नियमों को 2017 में अधिसूचित किया गया था.

DigiLocker का उपयोग कैसे करूं (How to open DigiLocker account)

DigiLocker सुविधा का लाभ उठाने के लिए, उपयोगकर्ताओं को अपने स्मार्ट फोन पर DigiLocker और mPerivahan ऐप डाउनलोड करना होगा.
इसके बाद यूजर्स को साइन-अप करने के लिए अपना मोबाइल नंबर डालना होगा. जैसे ही यह प्रक्रिया पूरी होगी, उपयोगकर्ता के मोबाइल फोन पर एक ओटीपी आएगा. फिर अगले चरण में लॉगिन करने के लिए आपको अपना उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड सेट करना होगा. इसके बाद आपका DigiLocker अकाउंट बन जाएगा. 
लेकिन आपको इस खाते को सुचारू रूप से चलाने के लिए अपना आधार नंबर प्रमाणित करना होगा.

डिजीलॉकर अकाउंट बनाने के बाद अब उपयोगकर्ता इस लॉकर में अपने स्कैन किए गए दस्तावेज अपलोड कर सकते हैं. एक फाइल का मैक्सिमम साइज़ 10 MB का हो सकता है और एक यूजर को 1 GB डाटा स्टोर करने की सुविधा मिलेगी.

DigiLocker खाते के लाभ (Benfits of DigiLocker Account )

1. यह आवश्यक दस्तावेजों की हार्ड कॉपी ले जाने की आवश्यकता को कम करेगा.

2. अब मूल दस्तावेजों की चोरी और गुम हुए मामलों की संख्या कम हो जाएगी.

3. यह ई-दस्तावेजों की प्रामाणिकता सुनिश्चित करेगा और इस तरह फर्जी दस्तावेजों के उपयोग को समाप्त करेगा.

4. यह बार-बार इन दस्तावेजों को बनाने के लिए सरकारी विभागों और एजेंसियों के प्रशासनिक कार्यभार को कम करेगा और इन कागजों को बनवाने के लिए घूस देनी की समस्या से निजात दिलाएगा.

5. DigiLocker में सहेजे गए साक्ष्य पुलिस जाँच और अन्य नौकरियों के लिए डॉक्यूमेंट सत्यापन के समय मान्य हैं. आप ट्रैफिक पुलिस को DigiLocker में रखे गये डाक्यूमेंट्स दिखा सकते हैं.

अब तक डिजीलॉकर सुविधा के 26.64 मिलियन पंजीकृत उपयोगकर्ता हैं और इस लॉकर में 3.53 बिलियन दस्तावेज संग्रहीत किए गए हैं.
इस प्रकार ऊपर दिए गए विवरण से यह स्पष्ट है की आगे आने वाले समय में DigiLocker की सुविधा बहुत लोकप्रिय होने जा रही है.

बिटकॉइन (Bitcoin) मुद्रा क्या है और कैसे काम करती है?

एयरपोर्ट की रडार प्रणाली कैसे काम करती है?

Leave a Comment