जानें तानाजी मालुसरे की शौर्यगाथा और सिंहगढ़ किले की लड़ाई के बारे में.

जैसा कि हम जानते हैं की हाल ही में तानाजी मालुसरे पर मूवी रिलीज़ होने वाली है और इसलिए ये नाम आजकल चर्चा में है. आखिर तानाजी मालुसरे कौन थे? तानाजी मालुसरे बहादुर और प्रसिद्ध मराठा योद्धाओं में से एक हैं और एक ऐसा नाम है जो वीरता का पर्याय है. वे महान शिवाजी के … Read moreजानें तानाजी मालुसरे की शौर्यगाथा और सिंहगढ़ किले की लड़ाई के बारे में.

जानें कोरेगांव भीमा युद्ध क्या है और दलित अधिकारों के लिए इसका क्या महत्व है?

कोरेगांव भीमा युद्ध का संक्षिप्त इतिहास (History of bhima koregaon  Battle) भीमा- कोरेगांव का युद्ध छुआछूत जैसी सामाजिक बुराई के प्रति जन्मा विद्रोह कहा जाना ज्यादा ठीक होगा. दरअसल पेशवाओं के शासन में शूद्रों को थूकने के लिए अपने गले में हांडी लटकाना जरूरी था, साथ ही कमर पर झाड़ू बांधना जरूरी था जिससे धरती … Read moreजानें कोरेगांव भीमा युद्ध क्या है और दलित अधिकारों के लिए इसका क्या महत्व है?

पानीपत की लड़ाई किसके बीच और कब हुई?

पानीपत दिल्ली के उत्तर में स्थित है और यहां तीन ऐसी लड़ाईयां हुई हैं जिसने भारत के इतिहास को बदलकर रख दिया. पानीपत की पहली लड़ाई (First Battle of Panipat) कब: 21 अप्रैल 1526 किसके बीच हुई लड़ाई: बाबर और इब्राहिम लोधी जगह: पानीपत के पास 21 अप्रैल 1526 को, पानीपत की पहली लड़ाई बाबर … Read moreपानीपत की लड़ाई किसके बीच और कब हुई?

10 दुर्लभ परंपराएं जो आज भी आधुनिक भारत में प्रचलित हैं

भारत दुनिया की सबसे पुरानी और शहरी सभ्यता अर्थात सिंधु घाटी सभ्यता का देश है। इसलिए, प्राचीन काल से लेकर आधुनिक भारत तक भारतीय समाज में विभिन्न संप्रदायों, रीति-रिवाजों, अनुष्ठानों और संप्रदायों का उद्भव एवं रूपांतरण होता रहा है। इनमें से कई संप्रदायों और रिवाजों का आधार धार्मिक और सामाजिक था। ये संप्रदाय और रीति-रिवाज … Read more10 दुर्लभ परंपराएं जो आज भी आधुनिक भारत में प्रचलित हैं

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के 7 महानायक जिन्होंने आजादी दिलाने में मुख्य भूमिका निभाई

भारत की आजादी की लड़ाई में लाखों लोगों ने भाग लिया था लेकिन कुछ ऐसे भी लोग थे जो एक नई प्रतीक या प्रतिमा के साथ उभरे. ये कहना गलत नहीं होगा कि आजादी के लिए हमारे स्वतंत्रता सेनानियों ने अपने जीवन का त्याग किया और इन्हीं लोगों के कारण हम आज स्वतंत्र देश में … Read moreभारतीय स्वतंत्रता संग्राम के 7 महानायक जिन्होंने आजादी दिलाने में मुख्य भूमिका निभाई

जानें कैसे सिक्किम भारत का हिस्सा बना?

स्थान: पूर्वी हिमालय में एक बहुत ही छोटा पहाड़ी राज्य सिक्किम है, जो तिब्बत, नेपाल, भूटान और भारतीय राज्य पश्चिम बंगाल के बीच में स्थित है.राजधानी: गंगटोकक्षेत्रफल: 7,096 वर्ग किलोमीटरप्रधान भाषाएं: लेप्चाम, भूटिया सिक्किम भारत का दूसरा सबसे कम आबादी वाला 22वां राज्य है जो हिमालय की आंतरिक पर्वत श्रृंखला का एक हिस्सा है. यह … Read moreजानें कैसे सिक्किम भारत का हिस्सा बना?

Indian History in Hindi, Ancient Indian History, Indian History Quiz, भारतीय इतिहास

Hindi – Indian History in Hindi, Ancient Indian History, Indian History Quiz, भारतीय इतिहास Feed created by FiveFilters.org https://www.jagranjosh.com/general-knowledge-%E0%A4%87%E0%A4%A4%E0%A4%BF%E0%A4%B9%E0%A4%BE%E0%A4%B8-1291878388-2 शहीद भगत सिंह ने क्यों कहा कि “मैं नास्तिक हूँ” https://www.jagranjosh.com/general-knowledge/why-bhagat-singh-said-that-he-is-an-atheist-1471075569-2?ref=list_gk जानें भारत ‌- पाकिस्तान के बीच कितने युद्ध हुए और उनके क्या कारण थे https://www.jagranjosh.com/general-knowledge/what-were-the-reasons-behind-indopakistan-war-and-its-effects-1470229171-2?ref=list_gk जानें पहली बार अंग्रेज कब और क्यों भारत आये थे … Read moreIndian History in Hindi, Ancient Indian History, Indian History Quiz, भारतीय इतिहास

भारत छोड़ो आंदोलन क्या है और क्यों महत्वपूर्ण है?

“भारत छोड़ो आंदोलन” देश का सबसे बड़ा आन्दोलन था जिसकी वजह से अंग्रेज भारत छोड़ने पर मजबूर हो गए थे. यह आन्दोलन ऐसे समय प्रारंभ किया गया जब दुनिया काफी बदलावों के दौर से गुजर रही थी। पश्चिम में युद्ध लगातार जारी था और पूर्व में साम्राज्‍यवाद के खिलाफ आंदोलन तेज होते जा रहे थे। … Read moreभारत छोड़ो आंदोलन क्या है और क्यों महत्वपूर्ण है?

जानें ‘भारत के एडिसन’ शंकर आबाजी भिसे के बारे में

कई भारतीय वैज्ञानिकों ने अपने उल्लेखनीय उपलब्धियों से हमारे देश को गौरवान्वित किया है. उनमें से एक डॉ. शंकर अबाजी भिसे थे, जिन्हें 19वीं शताब्दी में प्रसिद्धि प्राप्त हुई,  जब भारत में शायद ही ऐसी कोई वैज्ञानिक स्वभाव को विकसित करने वाली संस्थाएं थी. डॉ.शंकर अबाजी भिसे का जन्म 29 अप्रैल, 1867 को मुंबई में … Read moreजानें ‘भारत के एडिसन’ शंकर आबाजी भिसे के बारे में

ईश्वरचंद विद्यासागर: विधवा पुनर्विवाह के प्रवर्तक

Ishwar Chandra Vidyasagar ईश्वर चन्द्र विद्यासागर का जन्म 1820 ई. में एक निर्धन ब्राह्मण परिवार में हुआ था और उन्होंने संस्कृत के छात्र के रूप में एक बेहतरीन उपलब्धि हासिल की थी| उनकी महान शिक्षाओं के लिए कलकत्ता के संस्कृत कॉलेज,जिसके वे कुछ वर्षों के लिए प्रिंसिपल रहे थे,ने उन्हें ‘विद्यासागर’ की उपाधि प्रदान की| … Read moreईश्वरचंद विद्यासागर: विधवा पुनर्विवाह के प्रवर्तक