यूनिवर्सल बेसिक इनकम (यूबीआई): परिभाषा, विशेषताएं, लाभ और हानि

यूनिवर्सल बेसिक इनकम (यूबीआई) एक देश के लोगों को एक मुश्त फिक्स धनराशि देने की योजना है. इसमें लाभार्थियों का चयन करने के लिए उनकी आय, रोजगार की स्थिति, भौगोलिक स्थिति इत्यादि का आकलन नहीं किया जायेगा. यूबीआई का उद्देश्य देश में गरीबी को कम करना और नागरिकों में आर्थिक समानता बढ़ाना है. UBI को … Read moreयूनिवर्सल बेसिक इनकम (यूबीआई): परिभाषा, विशेषताएं, लाभ और हानि

भारत में मान्यता प्राप्त राज्य के राजनीतिक दलों की सूची

अप्रैल 2019 तक भारत में राष्ट्रीय राजनीतिक दलों की संख्या 7 है, जबकि राज्यों की मान्यता प्राप्त पार्टियों की संख्या 35 है और क्षेत्रीय दलों की संख्या लगभग 329 है. यदि कोई पार्टी राज्य विधानसभा की कुल सीटों में से कम-से-कम 3% सीट या कम-से-कम 3 सीटें, जो भी ज्यादा हो प्राप्त करती है; तो … Read moreभारत में मान्यता प्राप्त राज्य के राजनीतिक दलों की सूची

भारत की FAME II योजना क्या है?

भारत में अप्रैल 2015 में FAME (फास्टर अडॉप्शन एंड मैन्युफैक्चरिंग ऑफ (हाइब्रिड एंड) इलेक्ट्रिक व्हीकल) नेशनल इलेक्ट्रिक मोबिलिटी मिशन (NEMM) के तहत इस योजना को शुरू किया गया था. FAME योजना भारत की द्वितीय चरण पहले चरण की विस्तारित योजना है और इसका उद्देश्य इलेक्ट्रिक और हाइब्रिड वाहन को तेजी से अपनाना है. इसके अलावा, … Read moreभारत की FAME II योजना क्या है?

सन 1952 से अब तक लोकसभा चुनाव में प्रति मतदाता लागत कितनी बढ़ गयी है?

उम्मीद है कि 17 वीं लोकसभा चुनावों के कारण भारत सरकार के खजाने पर लगभग 6500 करोड़ का खर्चा आएगा. वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में यह खर्च लगभग 3870 करोड़ था. ज्ञातव्य है कि पहले लोक सभा चुनावों में, चुनाव आयोग ने कुल 10 करोड़ रुपये खर्च किये थे जो कि प्रति मतदाता के … Read moreसन 1952 से अब तक लोकसभा चुनाव में प्रति मतदाता लागत कितनी बढ़ गयी है?

एक राष्ट्रीय पार्टी को चुनाव आयोग क्या-क्या सुविधाएँ देता है?

इस समय देश में 7 राष्ट्रीय पार्टियाँ हैं जिन्हें चुनाव आयोग की तरफ से बहुत सी सुविधाएँ दी जातीं हैं जैसे राष्ट्रीय पार्टी के चुनाव चिन्ह को पूरे देश में किसी अन्य पार्टी के द्वारा प्रयोग नहीं किया जा सकता है, इन दलों को अपने पार्टी कार्यालय स्थापित करने के लिए सरकार से भूमि या … Read moreएक राष्ट्रीय पार्टी को चुनाव आयोग क्या-क्या सुविधाएँ देता है?

जाने बाबासाहेब डॉ. बी. आर. अम्बेडकर के बारे में 25 अनजाने तथ्य

भारत रत्न से सम्मानित डॉक्टर भीमराव अम्बेडकर को एक विश्वस्तरीय विधिवेत्ता, दलित राजनीतिक नेता और भारतीय संविधान के मुख्य शिल्पकार के तौर पर पहचाना जाता है। लेकिन उनसे जुडी कई ऐसी बातें हैं जिससे ज्यादातर लोग अंजान है। आइए इस लेख में हम अम्बेडकर के जीवन से जुडी 25 अनजाने तथ्यों को जानने का प्रयास … Read moreजाने बाबासाहेब डॉ. बी. आर. अम्बेडकर के बारे में 25 अनजाने तथ्य

भारत में वोट करने के लिए पंजीकरण कैसे करें?

हमें, हमारे लोकतांत्रिक देश में अपनी पसंद के अनुसार नेता को चुनने का अधिकार है. लेकिन इसके लिए मतदान या वोट करना आवश्यक है और इसके लिए भारत के प्रत्येक नागरिक को अपना वोट दर्ज करना होता है. आखिर मतदान आपका कानूनी अधिकार है. आइये इस लेख के माध्यम से अध्ययन करते हैं कि वोट … Read moreभारत में वोट करने के लिए पंजीकरण कैसे करें?

T.N. शेषन: भारत में चुनाव सुधार के पितामह

टी. एन. शेषन को भारत में चुनाव सुधारों के पितामह के रूप में जाना जाता है. उनका जन्म 15 दिसंबर 1932 को पलक्कड़, मद्रास प्रेसिडेंसी, ब्रिटिश भारत (अब केरल, भारत) में हुआ था. तमिलनाडु कैडर के 1955 बैच के भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) अधिकारी का पूरा नाम तिरुनेलई नारायण अय्यर शेषन था और वह भारत … Read moreT.N. शेषन: भारत में चुनाव सुधार के पितामह

जानें भारत के राष्ट्रीय राजमार्गों का नामकरण कैसे होता है?

राष्ट्रीय राजमार्ग का नाम कहां से कहां तक राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-1  जम्मू और कश्मीर: (उड़ी, बारामूला, श्रीनगर, कारगिल और लेह) राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या -2  असम, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम:(डिब्रूगढ़, शिवसागर, मोकोकचुंग, वोखा, कोहिमा, इम्फाल, चुराचांदपुर,  सेरछिप) राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या -3  पंजाब, हिमाचल प्रदेश, जम्मू और कश्मीर :(अटारी, अमृतसर, जालान-धार, होशियारपुर, हमीरपुर, मंडी, कुल्लू, मनाली) राष्ट्रीय राजमार्ग … Read moreजानें भारत के राष्ट्रीय राजमार्गों का नामकरण कैसे होता है?